Fellow travellers

Wednesday, May 11, 2011

उम्मीद

कहीं एक उम्मीद सी है
दिल के किसी झंरोखे से चुप चाप
चली आती है सांस बनकर
सिसकियाँ उभार लाती है
मरने नहीं देती


ज़िन्दगी जलाती है हर लम्हा
हर ख्वाब जलकर राख होने को है
कहीं से फिर आता है एक हवा का झोंका
काले शोलों को पीला कर जाता है
एक चिंगारी कहीं खोने नहीं पाती


कहीं एक सपना सा है
अचानक चौंका देता है
हरकत सी होती है
नीली पड़ती नसें, सफ़ेद हथेलियाँ
चल पड़ती हैं, सुर्ख़ी खोने नहीं पातीं


I had written and posted it somewhere else before in Oct'10.

8 comments:

Ramesh Sood said...

I have always lived on hope...

Zindagi khoobsoorat toh nahin, phir bhii zindagi khoobsoorat toh hai.. yesh sach hai..

I loved your words ... " Most romantic relations are the ones which the world remains oblivious to.."

Excellent.. Liked the oath on the top of your page..many a time gets miserably misinterpreted..

RM said...

Thank you so much sir.... hope I haven't misinterpreted the oath... or fail in living it... I knew you'd like the oath :)


Regards

Saumya said...

you just described what i always feel!!

RM said...

Ramesh sood sir said : "I have always lived on hope...

Zindagi khoobsoorat toh nahin, phir bhii zindagi khoobsoorat toh hai.. yesh sach hai..

I loved your words ... " Most romantic relations are the ones which the world remains oblivious to.."

Excellent.. Liked the oath on the top of your page..many a time gets miserably misinterpreted.. "

RM said...

@ Ramesh sir: Thank you so much sir.... hope I haven't misinterpreted the oath... or fail in living it... I knew you'd like the oath :)


Regards

RM said...

@ Saumya : This is all we have that keeps us going.. isn't it dear... thanks for the visit and letting me know that you shared the feeling

Take care :)

Bhagat Singh Panthi said...

कहीं से फिर आता है एक हवा का झोंका
काले शोलों को पीला कर जाता है
एक चिंगारी कहीं खोने नहीं पाती

मै अपनी लाइफ में इसको अवोइड करने की कोशिश करता हूँ. क्योकि आजतक मै अपने १% भी सपने पूरे नहीं कर पाया. बुडापा आने को है.

RM said...

@Bhagat Singh Panthi जी :
उम्मीद को अवोइड नहीं करना चाहिए I उम्मीद ही तो जीवन का सहारा है ... जब तक हम जी रहे हैं ज़िन्दगी ख़त्म नहीं हुई है और सारी कड़वी यादों को भुलाने के सच्ची ख़ुशी के चार पल भी काफी होते है I धीरज रखिये पता नहीं कब किसी एक पल में आपको, आपके बाकी ९९ % सपने न सही, अपनी ज़िन्दगी पूरी होती दिखाई दे ... :) :)