Fellow travellers

Sunday, December 12, 2010

लगता है कविता रूठ गयी है मुझसे- In conversation with poetry

कल जब कविता की डोर पे दिल के भाव सुखाने चली
अस्पष्ट अभिव्यक्तिओं की खींचतान में वो डोर उलझ गयी
और ज़ोर डाला; एक पंक्ति लगाने की उम्मीद से
कुछ हलके सस्ते शब्दों के भारी बोझ से वो अंततः टूट गयी

लगता है कविता रूठ गयी है मुझसे

कहा उसने
ख़ुद को कितने रंगों में ढालोगी तुम
हर रंग में ढलके ख़ुदका रंग तो न भूल जाओगी
अब तो जैसे काले रंग में तुम्हारी आत्मा होने लगी है गुम

लगता है कविता रूठ गयी है मुझसे

पूछा मैंने
कविता, कहाँ हुई चूक मुझसे
मैंने सुना था पढ़ा था
सूरज की रौशनी जो टूटती है; बिखरती है सात रंगों में
गर समेट लूं मैं भी उन्हें स्वयं में; जब टूटूंगी रौशनी बिखरेगी जग में

लगता है कविता रूठ गयी है मुझसे

इस सीधे से प्रश्न के उत्तर में एक आइना थमा दिया
कहा मुझसे, "देख स्वयं को और बता क्या दिखाई दिया"
कहा, "सूरज अब भी सूरज है, क्या तू अब भी तू है ?
सूरज खुद ही रंगों का स्रोत, तुने ली उधार की रंगत
दुनिया के रंग तुझमे प्रतिफलित हैं मात्र, गिरते पड़ते संभाल रही है उन्हें दोनों हाथों से
इसके अलावा तेरे अपने हर भाव, हर कृति से खाली तेरे हाथ
टूट के बिखरेगी जब तू; अफ़सोस का धुआं होगा, असफलता के टुकड़े
अब भी समय है, झाँक अपने अन्दर
सात रंग तेरे अपने साबूत हैं
तेरे रक्त की पीड़ा लाल, तेरे रक्त का तेजस्वी उफान नारंगी
तेरे मन में चंचल हरा बचपना, तेरी बंद आँखों में विश्वास की पीली गर्मी
तेरे मन में प्यार के घनी नीली शाम,  तेरे सपनों में मन का काग़ज़ नीला
उसपे उकेरे तेरे सपने, तेरे दृढ निश्चय बैंगनी
आत्मविश्वास की कलम डुबो इनमे फिर लिख जो लिखना है
फिर तेरी महक आएगी मुझसे; फिर नहीं रूठूंगी मैं तुझसे.



For friends who are uncomfortable with the Hindi script :

kal jab kavita ki dor pe dil ke bhaav sukhane chali
aspasht abhiwyaktiyon ki khinchtan me wo dor ulajh gayi
aur zor daala ek pankti lagane ki ummeed se
kuch halje saste shabdon ke bhaari bojh se antath wo toot gayi

lagta hai kavita rooth gayi hai mujhse

kaha usne
"khud ko kitne rangon me dhaalogi tum ?
har rang me dhalke khud ka rang to na bhool jaogi
ab to jaise kaale rang me tumhari aatma hone lagi hai gum"

lagta hai kavita rooth gayi hai mujhse

poochha maine
kavita, kahan hui chook mujhse
maine suna tha padha tha
suraj ki roshni jo tootati hai; bikharti hai saat rangon me
gar samet loon main bhi unhe swayam me; jab tootungi roshni bikhregi jag me

lagta hai kavita rooth gayi hai mujhse


Is seedhe se prashn ke uttar me ek aaina thama diya
Kaha mujhse, " dekh swayam ko aur bata kya dikhayi diya ?"
kaha, " suraj ab bhi suraj hai' kya tu ab bhi tu hai?
suraj khud hi rangon ka srot; tune li udhar ki rangat
duniya ke rang tujhme pratifalit hain matr, girte padte sambhaal rahi hai unhe dono haathon se
iske alawa tere har bhav, har kriti se khaali tere haath
toot ke bikhregi jab too; afsos ka dhuan hoga, asafalta ke tukde
ab bhi samay hai jhaank apne andar
saat rang tere apne saboot hain
tere raqt ki peeda laal, tere raqt ka tejaswi ufaan narangi
tere man me chanchal hara bachpana, teri band ankhon me vishwaas ki peeli garmi
tere man me pyar ki ghani neeli shaam, tere sapnon me man ka kaghaz neela
uspe ukere tere sapne, tere dridh nishchaya baingni
atma vishwas ki kalam dubo inme fir likh jo likhna hai
fir teri mehak aayegi mujhse; fir main nahin roothungi tujhse

Saturday, December 4, 2010

Empty Victory

 

 

 

It doesn't feel rewarding to be right when you are wrong

 

  

 

: This is a feeling that came to my heart after winning an argument with someone really close to my heart.